international

Pakistan ने Indian Envoy को VISA देने से किया इनकार- Defence India News

 

मौजूदा परिस्थितयो ने अत्यंत गंभीर, संगीन, संजीदा और आक्रामक रूप लिया है, जहा एक तरफ चीन के साथ युद्ध का सामना करने की तैयारी में भारत का क्रांतिकारी आक्रोश देखा जा रहा है वही दूसरी तरफ पाकिस्तान भी अपनी छोटी हरकतों से आगे निकल नहीं पा रहा है।

 

अंतर्राष्ट्रीय मंच पर बेइज्जती और असफलता हाथ लगने के बाद पाकिस्तान कहा समझने वाले देशो में से एक है। चीन के साथ दोस्ती ने उसकी सोचने और समझने की ताकत को अब खतम कर दिया है। ताजा मामला India-Pakistan के बीच राजनयिक की पोस्टिंग से जुड़ा है, जिस पर पाकिस्तान ने ऐतराज जता दिया है। पाकिस्तान अब राजनयिक संबंधों तक को बिगाड़ने पर उतारू हो गया है और पाकिस्तान की मजूदा हरकत के बाद मालूम चलता है की उसके पास अब कुछ रह नहीं गया है जिसके दम पर वो इंडिया के खिलाफ खड़ा होगा ।

राजनयिक जयंत खोबरागड़े की नियुक्ति भारतीय सरकार के तरह से की गयी थी और पाकिस्तान ने इस्लामाबाद में भारतीय दूत जयंत खोबरागड़े (Jayant Khobragade) की भारत के chargé & affaires के रूप में नियुक्ति रोक दी है| अपनी हरकतों को बरक़रार रखते हुए पाकिस्तान ने नियुक्ति रोकने के लिए खोबरागड़े को वीजा देने तक से इनकार कर दिया है|

जयंत खोबरागड़े की नियुक्ति भारत ने जून में ही प्रस्तावित किया था। हालांकि, पाकिस्तानी जासूसों के पकड़े जाने के बाद भारत ने जून में ही राजनयिक संबंधों को कम करने का ऐलान करते हुए पाकिस्तानी दूतावास के संख्याबल को 50 फीसदी घटाने के निर्देश दे दिए थे। बदले में विदेश मंत्रालय ने इस्लामाबाद के दूतावास से भी आधे राजनयिकों को वापस बुला लिया था।

 

सरकार का मानना है कि पाकिस्तान खोबरागड़े को वीजा न देकर भारत के जून के फैसले का विरोध जता रहा है। साथ ही इसे पाकिस्तान की अलग-अलग अंतरराष्ट्रीय मंचों पर कश्मीर मुद्दे को ठीक से न उठा पाने के अवसाद के तौर पर भी देखा जा रहा है।

 

पाकिस्तान का तर्क भारतीय दूत को वीजा न देने के पीछे:

 पाकिस्तान ने राजनयिक खोबरागड़े का वीजा रद्द करने के पीछे उनकी वरिष्ठता को वजह बताया है। 

 पाक का कहना है कि इस्लामाबाद स्थित दूतावास के संख्याबल के आधे होने के बाद खोबरागड़े वहां भारतीय मिशन का नेतृत्व करने के लिए काफी सीनियर हैं, वह भी ऐसे समय में जब दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत न के बराबर है।

 

पाकिस्तान ने भारत के साथ राजनयिक संबंधों को डाउनग्रेड किया है| इससे पहले जब भारत ने 2019 में जम्‍मू-कश्‍मीर में धारा 370 को खत्‍म कर दिया था, तब पाकिस्‍तान ने भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को निष्कासित कर दिया था| तब से ही इस्लामाबाद में भारतीय मिशन और नई दिल्ली में पाकिस्तानी मिशन का नेतृत्‍व उनके charge d’affaires द्वारा किया गया|

इस बीच दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों को संयुक्त राष्ट्र (UN) की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर संबोधित करना है, जो कि दुनिया में कोरोना महामारी के बीच आयोजित होने वाला है| संयुक्त राष्ट्र महासभा का यह वार्षिक सत्र 21 सितंबर से शुरू होने वाला है|

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले से रिकॉर्ड किए गए वीडियो संदेश के जरिए इस विशेष कार्यक्रम को संबोधित करेंगे| वहीं आम बहस 22 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेगी| पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का भाषण 25 सितंबर को होने की संभावना है|