international

सीमा विवाद: चीन ने कहा भारतीय सैनिकों ने अवैध रूप से नियंत्रण रेखा पार की- Defence India News

 

चीन के बेबुनियाद आरोपों की कोई हद्द बाकि नहीं रह गयी है अब, खुद को निर्दोष और परस्तिथियो का मारा बताने की कोशिशों  में चीन इतना आगे भाड़ गया है की वो खुद उसकी बातो पर उसकी बातो पर चीन और भारत के प्रतिरोधी देशो  के आलावा कोई विश्वास नहीं कर सकता है।

चीन के विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि भारतीय सैनिकों ने अपनी साझा सीमा पर अवैध रूप से नियंत्रण रेखा पार कर ली और सबसे पहले एक गंभीर सैन्य उकसावे में चेतावनी के शॉट दागे| चीन सिर्फ यहाँ तक नहीं रूका और डंके की चोट पर बोल रहा है की भारतीय सैनिकों ने अवैध रूप से नियंत्रण रेखा पार की और पहले चीन पर गोलीबारी की, जिसमें उसने भारतीय सेना पर पेट्रोलिंग कर रहे चीन के सैनिकों पर फायरिंग करने का आरोप लगाया है।

चीन के विदेश मंत्रालय ने झूठे आरोप लगाते हुए कहा, 'सात सितंबर को भारतीय सैनिकों ने अवैध रूप से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को पार किया और पेंगोंग त्सो के दक्षिण तट में प्रवेश किया। भारतीय सैनिकों ने परामर्श के लिए हमारी सीमा पर गश्त कर रहे सैनिकों पर वार्निंग शाट्स दागे। हमारे सैनिकों को स्थिति को स्थिर करने के लिए उपाय अपनाने को मजबूर होना पड़ा।

चालबाज चीन ने भारत पर समझौते का उल्लंघन करने का आरोप लगाया। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने बीजिंग में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा की भारत अपने सीमावर्ती सैनिकों को अनुशासित करने का आग्रह करे| मंत्रालय ने कहा, 'भारत के व्यवहार ने समझौतों का उल्लंघन किया। यह गंभीर रूप से सैन्य उकसावे की कार्रवाई है। हमने राजनयिक और सैन्य चैनलों के माध्यम से अभ्यावेदन किया है और उन्हें खतरनाक कदमों को तुरंत रोकने, सीमा पार करने वाले सैनिकों को हटाने और अग्रिम पंक्ति के जवानों को अनुशासित करने के लिए कहा है।'

बता दें कि चीन ने बीती रात वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की। जिसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। हालांकि इस गोलीबारी में किसी को निशाना नहीं बनाया गया। इसके बाद चीन के जवान पीछे हटे। हालांकि कुछ देर बाद ही सीमा पर हालातों को नियंत्रित कर लिया गया था।

परिस्तिथिया बेहद गंभीर होती दिख रही है जहा एक तरफ दोनों पक्षों पर समझदारी और जिम्मेदारी के साथ परिस्थितियों को संभालने की बात होती दिखाई देती है वही दूसरी तरफ भारत और चीन ने एक-दूसरे पर पश्चिमी हिमालय में अपनी सीमा पर टकराव के दौरान, परमाणु-सशस्त्र राष्ट्रों के बीच सैन्य तनाव को और बढ़ाने का आरोप लगाया है।

 

Read more: चीनी सेना ने इलाके में तैनात किए J-20 लड़ाकू